Breaking News

राजधानी तिरुवनंतपुरम में BPJ को अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद, हैरान कर सकते हैं नतीजे-Kerala assembly election BJP hopes to pull off a Capital surprise


पीएम मोदी की रैली के दौरान भीड़

पीएम मोदी की रैली के दौरान भीड़

Kerala Assembly Election: केरल विधानसभा चुनाव के लिए एकमात्र फेज के लिए वोटिंग 6 अप्रैल को होगी. भाजपा के घोषणा-पत्र में सबरीमला के लिए कानून और ‘लव जिहाद’ के खिलाफ कानून के साथ ही हर परिवार से कम से कम एक सदस्य को रोजगार और हाई स्कूल के छात्रों के लिये मुफ्त लैपटॉप समेत कई वादे किये गए हैं.

तिरुवनंतपुरम. केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम बीजेपी के लिए हमेशा एक ऐसा चुनावी मैदान रहा है जहां वो अपने विचारधारा को परखने की कोशिश करते हैं. यहां के त्रावणकोर शाही परिवार का झुकाव बीजेपी की तरफ रहा है. इसके अलावा पिछले कुछ सालों में बीजेपी ने यहां अपनी पैठ मजबूत की है. साल 2009 के लोकसभा चुनाव में ओ राजागोपाल ने CPM-LDF के मोर्चे और कांग्रेस-UDF गठबंधन को कड़ी टक्कर दी थी. राजागोपाल वोटों की गिनती के दौरान शुरुआती कई राउंड में शशि थरूर से आगे चल रहे थे. हालांकि उन्हें जीत नहीं मिली थी. लेकिन 7 साल के बाद राजागोपाल विधानसभा चुनाव में बीजेपी के लिए जीत का खाता खोलने में कामयाब रहे. उन्हें तिरुवनंतपुरम के निमोम से जीत मिली थी.

इस बार के चुनाव में जिले की 14 विधानसभा सीटों में से बीजेपी के उम्मीदवार कम से कम चार में जीत दर्ज करने का दम भर रहे हैं. जिन चार उम्मीदवारों से जीत की उम्मीद जताई जा रही है वो हैं- पूर्व राज्य प्रमुख कुम्मानम राजशेखरन (निमोम), राज्य महासचिव सोभा सुरेंद्रन (कजाककुट्टम), अभिनेता कृष्ण कुमार (तिरूवनंतपुरम-शहर) और वरिष्ठ नेता वीवी राजेश (वट्टीयोर्कवु). इसके अलावा जिले में बीजेपी के दो और उम्मीदवार- पी के कृष्णदास (कट्टकडा) और राज्य सचिव सी शिवंकुट्टी (अरुविककर) विरोधियों को कड़ी चुनौती दे रहे हैं.

पिनराई विजयन Vs पीएम मोदी?
अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए निमोम विधानसभा क्षेत्र के एक वोटर पी मनोज ने बताया कि इस बार का ये चुनावी मुकाबला पिनराई विजयन और पीएम मोदी के बीच है. मनोज एक ऊंची जाति के हिंदू वोटर हैं. उन्होंने कहा, ‘इस ज़िले की सारी सीटों पर बीजेपी के उम्मीदवार LDF और UDF को कड़ी टक्कर देंगे. काझाकूट्टम और निमोन में इस बार टक्कर NDA और LDF के बीच है.’ बता दें कि मनोज बीजेपी के साइलेंट वोटर रहे हैं. लेकिन इस बार वो खुल कर पार्टी के पक्ष में बात कर रहे हैं.ये भी पढ़ें:- दुर्ग में कोरोना से इतनी मौतें कि श्मशान में कम पड़ रही जगह, मर्च्यूरी भी फुल

क्या कहता है चुनावी रिकॉर्ड?
आंकड़ों पर नज़र डालें तो तिरुवनंतपुरम में बीजेपी को कभी भी 16 फीसदी से ज़्यादा वोट नहीं मिले है. हालांकि साल 2014 के लोकसभा और और 2016 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के कैंडिडेट दूसरे नंबर पर रहे थे. इस बार बीजेपी की निगाहें तिरुवनंतपुरम के ऊंची जाति ‘नायर’ पर टिकी हैं. हिंदू वोटरों में 30 प्रतिशत हिस्सेदारी नायर की है. बीजेपी यहां सबरीमला मंदिर का भी मुद्दा उठा रही है.

पीएम मोदी की रैली
पीएम मोदी यहां रैली भी कर चुके हैं. उन्होंने तिरुवनंतपुरम में एक रैली में दोनों प्रतिद्वंद्वी मोर्चों पर निशाना साधते हुए कहा है कि यूडीएफ-एलडीएफ जुड़वां हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कथित सोना तस्करी मामले में राज्य के सत्ताधारी वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) पर निशाना साधा है और आरोप लगाया कि जिस प्रकार चांदी के चंद टुकड़ों के लिए जूडस ने ईसा मसीह को धोखा दिया, उसी प्रकार एलडीएफ ने सोने के चंद टुकड़ों के लिए केरल को धोखा दिया है.









Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *