Breaking News

सांसद मोहन डेलकर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आई सामने, दम घुटने से हुई मौत


मोहन डेलकर (Mohan Delhkar) दादरा और नगर हवेली (Dadra Nagar Haveli) लोकसभा क्षेत्र से 7 बार सांसद रहे हैं.

मोहन डेलकर (Mohan Delhkar) दादरा और नगर हवेली (Dadra Nagar Haveli) लोकसभा क्षेत्र से 7 बार सांसद रहे हैं.

मोहन डेलकर (Mohan Delhkar) दादरा और नगर हवेली (Dadra Nagar Haveli) लोकसभा क्षेत्र से 7 बार सांसद रहे हैं. उनके पिता संजीभाई डेलकर भी कांग्रेस से दादरा और नगर हवेली के सांसद रहे हैं. सोमवार को मुंबई के एक होटल में उनका शव मिला था.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    February 23, 2021, 3:01 PM IST

दादरा. दादरा और नगर हवेली के निर्दलीय सांसद मोहन डेलकर (Mohan Delhkar) की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है. मुंबई पुलिस के मुताबिक, उनकी मौत फांसी के फंदे से लटकने के बाद दम घुटने से हुई है. डेलकर के गले में फंदे के गहरे निशान भी मिले हैं. सोमवार को उनकी लाश मुंबई के एक होटल रूम से बरामद हुई थी. पुलिस को मौके से सुसाइड नोट भी मिला था. फिलहाल जांच जारी है.

मोहन डेलकर (Mohan Delhkar) दादरा और नगर हवेली (Dadra Nagar Haveli) लोकसभा क्षेत्र से 7 बार सांसद रहे हैं. उनके पिता संजीभाई डेलकर भी कांग्रेस से दादरा और नगर हवेली के सांसद रहे हैं. मोहन डेलकर भी कांग्रेस और बीजेपी जैसी पार्टियों में रहे हैं, लेकिन अंतिम चुनाव उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में ही जीता था.

Mumbai के होटल में मृत पाए गए सांसद Mohan Delkar, खुदकुशी की आशंका 

बनाई थी खुद की पार्टीमोहन डेलकर ने अपनी खुद की पार्टी की भी स्थापना की थी, जिसका नाम उन्होंने ‘भारतीय नवशक्ति पार्टी’ रखा था. इस पार्टी से भी वे सांसद बने थे. साल 2009 में उन्होंने कांग्रेस पार्टी ज्वॉइन कर ली थी. लेकिन किन्हीं कारणों से कांग्रेस छोड़ दी और पिछले लोकसभा चुनाव यानी 2019 के चुनाव में वो बतौर निर्दलीय उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतरे और जीते भी.

6 पन्नों के सुसाइड नोट में लिखे थे 40 लोगों के नाम
मुंबई पुलिस को सांसद के कमरे से 6 पन्नों का एक सुसाइड नोट (Suicide Note) भी मिला है. पुलिस के मुताबिक सुसाइड नोट में 40 लोगों के नाम हैं. फिलहाल फॉरेसिंक डिपार्टमेंट इस सुसाइड नोट की भी जांच कर रही है कि क्या सुसाइड नोट पर मोहन डेलकर की ही हैंडराइडिंग है.

मुंबई में क्या करने गए थे डेलकर?

जानकारी के मुताबिक, मोहन डेलकर पिछले हफ्ते जेडीयू के नेताओं से मिले थे. उन्होंने नेताओं से दादरा और नगर हवेली के हालात पर चर्चा की थी. वो सांसदों के प्रतिनिधिमंडल को लेने मुंबई आए थे और 23 फरवरी को सांसदों को अपने साथ ले जाना था. लेकिन, 22 फरवरी को ही उनकी मौत हो गई.








Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *