Breaking News

Kota News: जंबो ट्रांसफार्मर को रास्ता देने के लिए पूरी रात अंधेरे में क्यों रहा कोटा, जानें पूरा मामला


भोपाल से कोटा के रास्ते कोलकाता ले जाया जा रहा जंबो ट्रांसफॉर्मर.

भोपाल से कोटा के रास्ते कोलकाता ले जाया जा रहा जंबो ट्रांसफॉर्मर.

Kota Jumbo Transformer: कोटा में 4 दिन तक फंसा रहा भारत से बांग्लादेश ले जाया जा रहा 20 फीट ऊंचा ट्रांसफॉर्मर. शहर के 50 से ज्यादा मोहल्लों की बिजली सप्लाई बंद कर प्रशासन ने जंबो ट्रांसफॉर्मर के लिए बनाया रास्ता.

कोटा. कोचिंग सिटी कोटा में एक विशाल ट्रांसफॉर्मर को रास्ता देने के लिए बिजली सप्लाई बंद करनी पड़ी! जी हां, आपको यह जानकर हैरानी होगी, लेकिन ये सच है. दरअसल, 20 फीट ऊंचे और करीब 16 फीट चौड़े ट्रांसफॉर्मर को लगभग 40 फीट लंबे ट्रॉला पर लादकर भारत से बांग्लादेश भेजा जा रहा है. भोपाल से कोटा के रास्ते इस ट्रॉला को कोलकाता तक जाना है, जहां से जहाज के जरिये इसे बांग्लादेश भेजा जाएगा. भारी-भरकम ट्रांसफॉर्मर को शहर से निकालना आसान नहीं था. इसलिए प्रशासन की अनुमति मिलने के इंतजार में यह ट्रॉला कोटा-जयपुर नेशनल हाईवे-52 पर 4 दिनों तक फंसा रहा. शनिवार को प्रशासन ने इसे निर्धारित रूट से निकालने की अनुमति दी, जिसके बाद 50 से ज्यादा मोहल्लों की बिजली सप्लाई बंद कर इसे निकाला जा सका.

ट्रॉला के ड्राइवर सुरेश सिंह ने बताया कि यह जंबो ट्रांसफॉर्मर, भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड यानी भेल ने बनाया है. चूंकि शहर में बिजली के तार या सड़कों पर कई तरह की परेशानी हो सकती है, इसलिए रूट क्लियर कराने के लिए प्रशासन की अनुमति जरूरी थी. सुरेश के मुताबिक ट्रांसफार्मर लेकर वह 18 मार्च को निकला और अभी तक 850 किलोमीटर का सफर पूरा किया है. कोटा जिला प्रशासन और जयपुर विद्युत वितरण निगम लिमिटेड की परमिशन नहीं मिलने के कारण यह ट्रांसफार्मर ट्रेलर पर कोटा-जयपुर नेशनल हाईवे स्थित बड़गांव अगमगढ़ गुरुद्वारे के पास खड़ा करना पड़ा. सुरेश सिंह ने बताया कि कोलकाता बंदरगाह तक पहुंचने के लिए अभी करीब 2000 किलोमीटर का सफर तय करना बाकी है. इसमें करीब 2 महीने का समय लग सकता है.

10 लाख की आबादी वाले शहर को कर सकता है रोशन

आगे पढ़ें









Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *