Breaking News

भारत आकर चैन मिला, काबुल के दर्दनाक अनुभव को भूलना चाहते हैं शैलेंद्र

गोरखपुर . काबुल (Kabul) से भारत पहुंचे 40 वर्षीय शैलेंद्र शुक्ला सोमवार को परिवार से मिलकर राहत महसूस कर रहे हैं और काबुल में तालिबान (taliban) के आतंक के साए में बिताए गए उन 48 घंटों को भूलना चाहते हैं. गोरखपुर के चौरी चौरा क्षेत्र के नयी बाजार निवासी शैलेंद्र शुक्ला Continue Reading

शैलेंद्र के लिए बिहार ने क्या किया? | – News in Hindi

उस लड़के का नाम शंकर दास केसरीलाल था. जन्म तो उसका रावलपिंडी में हुआ था, लेकिन उसके पिता और दादा बिहार के आरा के थे. जो लोग बिहार और यूपी के हैं उन्हें पता है कि दास सरनेम होने का स्थानीय समाज में क्या मतलब होता है. पिता की बीमारी Continue Reading