Breaking News

क्या हमारी व्यवस्था में करुणा और समानुभूति नहीं हो सकती है? – Can we not have compassion and empathy in our system? | – News in Hindi

आज इस प्रश्न पर विचार करना अपरिहार्य हो गया है. करुणा और समानुभूति को केवल सन्यासियों या आध्यात्म का विषय मानने की परम्परा को अब तोड़ना होगा. इस वक्त, जबकि दुनिया एक महामारी के प्रकोप में झुलस रही है. जबकि महामारी का फैलाव नित नए रूप ले रहा है, जबकि Continue Reading